-->
Drop Down MenusCSS Drop Down MenuLalawasiya

Latest News

Welcome to www.lalawasiya.com

दैनिक जागरण ने फौजी भीम सैन को सांझी में उकेरा...

दैनिक जागरण ने फौजी भीम सैन को सांझी में उकेरा...

                    पराक्रमियों की इस धरा पर अनेक वीर सपूत ऐसे भी हुए हैंए जिन्होंने अपनी मातृभूमि की रक्षा करने के साथ.साथ अन्य क्षेत्रों में भी अपना लोहा मनवाया है। भिवानी जिले के गांव लालावास के एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में 1950 में जन्मे भीम सैन ने भी बॉर्डर पर मोर्चा संभालने के साथ.साथ सेना में पहलवानी में भी लोहा मनवाया। अपने पिता चंदगी राम शर्मा से प्रोत्साहन पाकर इन्होंने गांव का नाम रोशन किया। इनका पूरा परिवार ही देशभक्तिए संस्कृतिए अध्यात्म और खेल.खेती की मिसाल कायम करता है।
पहले खेती ही परिवार की आजिविका का एकमात्र साधन था। सैनिक बनने के सपनों को पंख लगाते हुए मात्र 19 वर्ष की आयु में भीम सैन भारतीय सेना में भर्ती हुए। इन्होंने भारतीय सेना में ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्र में भी अपनी पहलवानी के जौहर बिखेरते हुए किर्तिमान स्थापित किए। भीम के चाचाजी हुक्मीचंद आर्य भी एक प्रसि़द्ध भजनोपदेशक थे। उनकी ख्याति आज भी हरियाणा समेत राजस्थान में दूर.दूर तक विद्यमान है। पांच पुत्रों की माता लिछमी देवी जहां धार्मिक प्रवृत्ति की रहींए वहीं भीम सैन की पद्वी लक्ष्मी देवी भी धार्मिक प्रवृत्ति की महिला है। भीम सैन आज भी सुबह चार बजे उठकर लालावास से सटे खेतों.गांवों तक दौड़ लगाते हुए अपनी दिनचर्या का श्रीगणोश करते है। वे अपने सैन्य जीवन और पहलवानी के अनुभवों को युवाओं के साथ साझा करते हुए उन्हें प्ररित करते हैं।

भीम सैन शर्मा की कलम से...
1971 में भारत का युद्ध पाकिस्तान के साथ हुआ। उस समय मैंने डेरा बाबा नानक बॉर्डर पर मोर्चा सम्भाल रखा था। वर्ष 1971 में 3 दिसम्बर से 15 दिसम्बर तक लगातार 13 दिनों तक युद्ध चला। इस दौरान बांग्लादेश को पाकिस्तान से आजाद करवाया गया। इस युद्ध में 93 हजार पाकिस्तान के जवान जेसीओण् ऑफिसरए आर्मी कमांडरए लेफ्टिनेंट जनरलए समेत कई को पकड़कर दिल्ली लाया गया। सन् 1972 में कबड्डी में अपना व अपनी बटालियन का नाम रोशन किया। 1972 में ही ढाब.ढाणी में हुए कबड्डी खेलों में मनसरबास की टीम की तरफ से प्रतिनिधित्व करते हुए फाइनल मैच में रोहतक की टीम को हराकर खिताब पाकर परचम लहराया। सन् 1987 में पाकिस्तान के साथ फिर से युद्ध होने की संभावना हुई। उस समय मैंने जैसलमेर बॉर्डर का मोर्चा संभाला। बाद में पाकिस्तान के हार मानने के कारण युद्ध टल गया। सन् 1995 में चीन बॉर्डर पर अरुणाचल प्रदेश में वार ऑफ मिशन में पूर्ण हथियारबंद तकनीकी का काम करते हुए आम्र्ड आर्टी इनफैन्ट्री के तमाम हथियार युद्ध के लिए फिट.फार करते हुए मेडल व एचध्लेफ्टिनैंट पद से नवाजा गया। अपने देश और गांव के लिए हमेशा युवाओं को प्रेरित करना ही आगे का ध्येय है।
अधिक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक किजिए और हमारे साथ बने रहिए। अभी तुरंत यहाँ क्लिक किजिए...
                                                               https://www.lalawasiya.com/p/bhim-sain-sharma.html



5वें स्व. मोहित बंसल क्रिकेट कप का हुआ आगाज...

लालावास में स्व. मोहित बंसल क्रिकेट कप का आगाज आज मा. राजेन्द्र गाँधी राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जे. जे. पी. संजय बंसल जे.सी.एस.बहल, धर्मपाल सरपंच, व बहन प्रिया बंसल ने आज लालावास के खेल परिसर में किया। इसके उपरांत 14 फरवरी को पुलवामा में हुए शहीदों को भी मौन धारण करके श्रद्धाजंलि अर्पित की।

उद्घाटन मैच में लालावास ने खैरपुरा को 18 रन से हराया...
स्वण् मोहित बंसल क्रिकेट कप में पहला मुकाबला लालावास व खैरपुरा के बीच हुआ। खैरपुरा की टीम ने टोस जीतकर लालावास के खिलाड़ीयों को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। लालावास की टीम ने 10 ओवर में इस पाँचवे सत्र के पर्दापर्ण मैच में बल्लेबाजी करते हुए 111 रन बनाए। लक्ष्य का पीछा करते हुए खैरपुरा की टीम 93 रन ही बना सकी। लालावास की टीम में मैन ऑफ दा मैच सुनील शर्मा रहे जिन्होंने 22 रन व 4 विकेट की सराहनीय पारी खेली। मैच में लालावास के खिलाड़ी प्रवेश, विशाल, भूपेन्द्र, अनिल, सोनू, अंकित, विरेन्द्र, सोनु व मोनू के फलस्वरूप प्रदर्षन अव्वल रहा। संजय बंसल जे.सी.एस.बहल ने हर छक्के पर 500 रूपये, व लालावास की टीम के लिए 11000 रूपये का विशेष योगदान देकर सभी खिलाड़ीयों का हौसला बढाते हुए भविष्य में भी युवाओं तन.मन.धन से हर संभव सहयोग देने का वादा भी किया। लालावास के खेल परिसर में खिलाड़ीयो के लिए भोजन का भी प्रबंध किया गया है। खिलाड़ियों के लिए हर संभव सफल कदम उठाते हुए युवा विकास मण्डल भी काफी उत्सुक नजर आया। इस अवसर पर पूर्व सरपंच नरेशए रामप्रताप, कैलाश चन्द्र, रोहताश, रामौतार, हव. कृष्ण, राकेश, ज्ञानीराम, संदीप, भजनलाल, मदनलाल, प्यारे, राजेश, ईश्वर नरेन्द्र, अजय, रमेश, सतबीर, सुनील, निरंजन, खुशीराम, अंकित, मौजूद थे।
अधिक जानकारी के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक किजिए और हमारे साथ बने रहिए। अभी तुरंत यहाँ क्लिक किजिए.....
                                                               https://www.facebook.com/lalawasiya